माई का मड़वा

माई का (मडवा) मण्डप श्री नर्मदा मंदिर से पूर्व दिशा की ओर माँई की बगिया से कच्चे मार्ग से होते हुए लगभग 7 कि.मी. की दुरी पर माई का (मडवा) मण्डप नामक स्थान स्थित है|कहते हैं कि यहां वह स्थान भी है जहां चिरकुंआरी मां नर्मदा का विवाह मंडप बनाया गया था। यहां मौजूद पुजारी… Read More »

संत कबीर चबूतरा

कबीर चबूतरा श्री नर्मदा मंदिर से पश्चिम-दक्षिण दिशा की ओर 5 कि॰मी॰ कि दूरी पर कबीर चबूतरा नामक स्थान है। इसी स्थान पर सर्वप्रथम कबीरदास जी ने पड़ाव डाला था उन्होने इस स्थान पर कठोर ताप किया और सिद्धी प्राप्त कि थी। याही कारण है कि कबीर पंथियों के लिए यह स्थान बहुत ही पवित्र… Read More »

जय ज्वालेश्वर धाम

नर्मदा मंदिर से कोई आठ किलोमीटर दूर जलेश्वर महादेव मंदिर है। यहीं से अमरकंटक की तीसरी नदी जोहिला नदी की उत्‍पत्ति होती है। विंध्य-वैभव के अनुसार यह शिव लिंग भगवान शंकर ने स्वयं स्थापित किया था। जिससे इसको महा-रूद्र मेरू भी कहा जाता है। पौराणिक कथा के अनुसार इन्हीं विशेष अध्यात्मिक गुणों के कारण भगवान शिव, देवी पार्वती… Read More »