माई का मड़वा

By | June 5, 2017

माई का (मडवा) मण्डप

श्री नर्मदा मंदिर से पूर्व दिशा की ओर माँई की बगिया से कच्चे मार्ग से होते हुए लगभग 7 कि.मी. की दुरी पर माई का (मडवा) मण्डप नामक स्थान स्थित है|कहते हैं कि यहां वह स्थान भी है जहां चिरकुंआरी मां नर्मदा का विवाह मंडप बनाया गया था। यहां मौजूद पुजारी और क्षेत्रीय लोग बताते हैं कि मां नर्मदा का विवाह सोनभद्र नामक नद से तय हुआ था। दोनों का विवाह होने की सभी तैयारियां हो गई थीं लेकिन जोहिला नामक नदी की वजह से विवाह विघ्न उत्पन्न हो गया और फिर मां नर्मदा सदा के लिए कुंआरी रह गईं। इस स्थान से सोनभद्र और जोहिला नदी भी निकलती हैं। कहते हैं कि इसी विघ्न से क्रोधित होकर मां नर्मदा पूर्व से पश्चिम की ओर उल्टी दिशा में बह गईं।